Bhai Ko Mard Banaya Behan Ne Part 4

Bhai Ko Mard Banaya Behan Ne Part 4

मैंने खाना खाया और अपने कमरे में आ गया । और अपने लैपटॉप पर नेट सर्फिंग करने लगा । दीदी किचन का काम निबटा रही थी और माँ अपने कमरे में सोने चली गयी थी ।
मैं भी 1 घंटे तक नेट सर्फिंग के बाद सोने ही जा रहा था तभी दीदी मेरे कमरे में आयी।

दीदी : ” समू , सो गया क्या ? ”

मैं : ” नहीं दी , बस सोने ही जा रहा था । अब आप ठीक तो हो ना । ”

दीदी :” हम्म …बस ठीक हूँ । ”

मैं : ” मैं समझ सकता हूँ दी , आपके ऊपर क्या बीत रही होगी । दिल टूटने के दर्द का अहसास है मुझे । ”

दीदी मुस्कुरायी : ” अच्छा किस लड़की ने तोड़ा दिल तेरा , बता मुझे ? ”

मैं : ” है एक लड़की । तुम उसे अच्छे से जानती हो । ”

और दीदी को जब अहसास हुआ कि मैं उनकी ही बात कर रहा हूँ तो उनके चेहरे के भाव बदल गए और वो एकदम से सीरियस हो गयी ।
मैंने उनका हाथ पकड़ कर अपने पास बैठाते हुए कहा , ” खैर छोडो दी उस लड़की को । आप अपनी बताओ ।”

दीदी धीमे स्वर में बोली ,” तू अब भी उस लड़की से प्यार करता है ? ”

मैंने उनकी आँखों में आँखें डाल कर कहा , “ हाँ दी !! और मरते दम तक करता रहूँगा ।”

स्नेहा दीदी थोड़ी देर खामोश रही और कमरे के एक कोने को घूरती रही । फिर दीदी की आँखों से झर झर आंसू बहने लगे ।

मैंने अपने हाथ से उनके आंसू पोछते हुए कहा , “अरे ये क्या ! लगता है मैंने अपनी प्यारी दीदी को फिर रुला दिया ।”

स्नेहा दीदी एक गहरी सांस लेते हुए बोली , ” नहीं रे पगले इसमें तेरा कोई कसूर नहीं । ये तो सब किस्मत का कसूर है । ”
वो आगे बोली , ” अजीब ही दस्तूर हैं ज़माने के । जिसे चाहो वो मिलता नहीं और जो तुम्हें चाहे उसे अपना नहीं सकते । ये कैसे रस्म – ओ – रिवाज़ हैं ।”

मैंने जवाब दिया , ” दी ! अगर ख़ुशी चाहिए तो ये रस्म – ओ – रिवाज़ों को तोड़ डालो ।”

दीदी ने चौंक कर मेरी तरफ देखा ।
मैंने आगे कहा , ” यहाँ किसे तुम्हारी परवाह है जो तुम ज़माने की परवाह करती हो ।अपनी खुशियों की बलि चढाती हो , किस के लिए ।
सच तो ये है दी कि ज़माने की दुहाई देकर हम अपनी खुशियों का गला खुद ही घोंट रहे हैं ।”

दीदी मेरी बात से थोड़ी संतुष्ट सी नज़र आने लगी थी ।

दीदी बोली , “ शायद तू ठीक कह रहा है ।…anyway…. चल बहुत रात हो गयी है , अब तू सो जा । गुड़ नाईट ।”

और दीदी बेड से उठ कर जाने लगी ।

मैंने उनका हाथ पकड़ा और वापस बेड पर बैठाते हुए बोला , ” दीदी एक बात बोलूं ? प्लीज बुरा तो नहीं मानोगी ।”

दीदी बोली , ” बोल ना , क्या बात है ? ”

मैं : ” प्लीज ! आज मेरे साथ यहीं पर सो जाओ ना । ”
दीदी ने चौंक कर मेरी तरफ देखा और मेरी आँखों में मिन्नत का भाव देख कर बोली , ” ठीक है ! पर कुछ गड़बड़ नहीं करना ।”

मैं खुश होते हुए बोला , ” प्रॉमिस दी ! कुछ गड़बड़ नहीं होगी ।”

और दीदी वहीँ मेरी बगल में लेट गयी ।
मैंने उनका सर उठा कर अपने सीने पर रख लिया और उनके बालों में उंगलियां फिराने लगा ।

मैं : ” दीदी प्लीज ! उदासी छोड़ो । उस कमीने के लिये और आंसू बहाने की ज़रूरत नहीं है । मैं आपके लिए बहुत अच्छा लड़का ढूंढूंगा ।
जो आपको बहुत बहुत प्यार करेगा और आपका बहुत ख्याल रखेगा । ”

दीदी मेरी बातें सुन कर मुस्कुरा दी और मेरे माथे पर चुम्बन लेकर फिर से मेरे सीने पर सर रख के लेट गयी ।

मैंने भी दीदी के सर पर किस किया और बोला, ” दी प्रॉमिस करो । अब आप कभी नहीं रोयेंगी ।”

दीदी ने अपने हाथ से मेरा सीना सहलाते हुए कहा , “ अगर तू मेरा ऐसे ही ख्याल रखेगा तो कभी नहीं रोऊँगी । आई प्रॉमिस !! ”

हम ऐसे ही काफी रात तक बातें करते रहे और मैं दीदी की पीठ , गरदन , बालों और गालों को धीरे धीरे सहलाता रहा और कब नींद आ गयी पता ही नहीं चला ।

अगले दिन मैंने देखा दीदी ऑफिस जाने के लिये तैयार ही नहीं हुई है । तो मैं दीदी के पास गया और पूछा , ” दी क्या बात है ? आज ऑफिस नहीं जाना क्या ? ”

दीदी ने थोड़ा उदास होते हुए कहा , “ मेरा मन नहीं हो रहा था तो मैंने 4 दिन की छुट्टी ले ली है। वैसे भी वहां उस कमीने राजन की शकल देखने से तो अच्छा है , मैं कुछ दिन घर पर आराम करूँ ।”

मैं : ” idea तो अच्छा है दी । पर उसे भी कब तक avoid करोगी। एक ना एक दिन तो सामना करना ही पड़ेगा ।”

दीदी : “ तब का तब देखा जाएगा । फिलहाल तो मेरा ऑफिस जाने का मूड नहीं है ।”

मैं : “ ok as u wish…चलो मैं तो ऑफिस निकलता हूँ , देर हो रही है । bye ”

दीदी : bye

आज ऑफिस में काम करने में मेरा बिलकुल मन नहीं लग रहा था । बस मन कर रहा था कि जल्दी से छुट्टी हो और दीदी के सामने पहुँच जाऊं ।
मुझे बार बार दीदी का ही ख्याल आ रहा था । मैं तरह तरह के दीदी के साथ वक्त गुजारने के बहाने खोज रहा था ।
अचानक मेरे दिमाग में एक आईडिया आया , क्यों न मैं दीदी को कहीं घुमाने ले जाऊं । दीदी का मन भी बहल जायेगा और मुझे भी दीदी का भरपूर साथ मिलेगा ।
मैंने ऑफिस से 3 दिन की छुट्टी ले ली ।

रात को खाना खाते वक्त मैंने माँ से कहा , ” माँ , चलो मैं तुम लोगों को कहीं घुमा के लाता हूँ । ”

माँ चौंकते हुए बोली , “ ये तुझे क्या हुआ । पहले तो कभी तूने हमें घुमाने का नहीं सोचा ।”

मैं : ” ओहो माँ ! पहले नहीं सोचा तो अब तो बोल रहा हूँ । अब चलो । ”

माँ : ” देख बेटा , मुझे तो कहीं नहीं घूमना इस बुढ़ापे में । तुम दोनों चाहो तो चले जाओ ।”

मैंने दीदी की तरफ देखा और पूछा , ” तो बताओ दीदी कहाँ चलना है ? ”

दीदी : ” मेरा मन नहीं है , तू अकेला ही चला जा । ”

माँ : ” ओहो ! अब तू भी मत जा , बेचारा कितना खुश होकर बोल रहा था ।”

मैं : ” ठीक है न माँ । किसी को नहीं जाना तो ज़बरदस्ती थोड़े ही है ।”

और मैं गुस्से में उठ कर अपने रूम में आ गया ।

दीदी दौड़ी दौड़ी मेरे पीछे आयी और मुझे पीछे से आलिंगन में भरते हुए बोली ,” ओके बाबा , आय एम सॉरी !
मैं तो यूँ ही तुझे चिढ़ाने के लिये बोल रही थी । बता ना कहाँ चलना है । ”

मैं खुश होते हुए बोला , ” मनाली चलते हैं । यहाँ से ज़्यादा दूर भी नहीं और जगह भी अच्छी है ।”

दीदी : ” ठीक है । कब चलना है ? ”

मैं : ” सुबह सुबह निकलते हैं । आप अपना सामान पैक कर लो । कुछ गरम कपडे ज़रूर रख लेना । ”

दीदी ने मेरे गाल पर एक चुम्बन लिया और “ ठीक है ” कह कर चली गयी ।

हम अगली सुबह मनाली के लिए निकल पड़े और 3 दिन तक वहां रहे । हमने मनाली में बहुत मस्ती की , खूब शॉपिंग की । स्नेहा दीदी मनाली आकर बहुत खुश हुई और मुझे उन्हें खुश देख कर बहुत अच्छा लग रहा था । हम दोनों एक ही रूम में रुके और रात को एक दूसरे के आलिंगन में ही सोते थे । पर सेक्स जैसी कोई बात हमारे बीच नहीं हुई । मैं ये निश्चय कर चुका था कि स्नेहा दीदी मेरे प्यार को खुद कबूल करेगी तो ठीक , नहीं तो अब अपनी तरफ से कोई पहल नहीं करूँगा ।

मनाली से वापस आने के बाद स्नेहा दीदी बहुत खिली खिली सी रहने लगी थी और मैं भी दीदी की छोटी छोटी ज़रूरतों का ख्याल रखने लगा था । जैसे जैसे समय गुज़र रहा था दीदी के प्रति मेरा प्यार और गहरा होता जा रहा था पर वक्त को शायद ये मंज़ूर नहीं था ।

एक दिन माँ ने मुझे बुला कर कहा , “ देख समू ! बहुत हुई मस्ती , अब कुछ आगे का सोचो । या तो अपने लिए कोई लड़की ढूँढ या फिर दीदी के लिए कोई लड़का । किसी एक की शादी तो देख के जाऊँ मैं , अब मेरी उम्र का क्या भरोसा । ”

मैंने माँ को आश्वासन दिया कि दीदी के लिये जल्दी ही मैं कोई लड़का ढूंढ़ता हूँ ।
कुछ दिन बाद , डिनर करते हुए मैंने मज़ाक में यूँ ही दीदी को चिढ़ाने के लिये कहा, “ माँ ! एक लड़का देखा है ।”

माँ ने उत्सुकता से पूछा , ” अच्छा कौन है , क्या करता है ? ”

मैंने स्नेहा दीदी की ओर देखा तो दीदी के चेहरे को अजीब सी उदासी ने घेर लिया था ।

मैंने माँ के सवाल का जवाब दिया , “ है एक लड़का । मेरे बैंक में एक साथी का रिश्तेदार है ।”

माँ ने खुश होते हुए पूछा , “ अच्छा करता क्या है ? तू बात आगे बढ़ा ।”

मैं : ” अभी ज़्यादा कुछ मालूम नहीं है । पर मैं पता करता हूँ , फिर आपको बताऊंगा । ”

माँ बोली , ” हाँ ठीक है । जल्दी पता कर के बताना ।”

मैंने हामी में गरदन हिलायी और स्नेहा दीदी की तरफ देखा । दीदी अपना खाना खत्म कर चुकी थी ओर थोड़ी नाराज़ सी लग रही थी । उन्होंने मुझे घूर के देखा ओर उठ कर किचन में चली गयी ।

मेरी कुछ समझ नहीं आया , मैं भी उठ के अपने रूम में आ गया ओर माँ भी अपने कमरे की ओर चली गयी ।
करीब डेढ़ घंटे बाद दीदी मेरे कमरे में आयी , तब तक मैं सो चुका था ।

उन्होंने मुझे जगाया , “ समू ! समू ! ”

मैं हड़बड़ा के उठा और स्नेहा दीदी को देख कर चौंकते हुए बोला , “ दी ! क्या हुआ ? ”

दीदी मेरे बेड पर बैठते हुए बोली , “ तुझसे बात करनी है ।”

मैं : ” क्या बात है बोलो ? ”

दीदी : ” कौन लड़का है ?”

मैं : ” कौन ?”

दीदी : “वही जिसकी बात तू , माँ से कर रहा था ।”

मैं : “ अरे वो ! मेरे एक साथी का रिश्तेदार है । ”

दीदी : ” देख समू ! मैं अभी शादी नहीं करना चाहती ।”

मुझे अचानक जैसे झटका लगा , “ क्या ? शादी नहीं करना चाहती ? पर क्यों ? ”

दीदी : ” वो …वो … बात ये है की मेरा अभी मन नहीं है शादी का ।”

मैं : ” पर दीदी , मैं भी तो वही पूछ रहा हूँ । मन क्यों नहीं है ? कोई तो वजह होगी ? ”

दीदी : ” मुझे नहीं पता । बस अब मेरा मन नहीं है और मेरे लिये लड़का देखने की कोई ज़रूरत नहीं है ।”

मैं : ” पर पहले तो आप ………………..दीदी मुझे नहीं समझ आ रहा , आखिर आप ऐसा क्यों बोल रही हो ? ”

दीदी : ” मैंने बताया ना , बस मेरा मन नहीं है ।”

मैं : ” या फिर कोई और बात है जो आप मुझसे छुपा रही हो ? ”

स्नेहा दीदी थोड़ी देर चुप रही फिर बोली , ” नहीं और कोई बात नहीं है ।”

मैं : ” कहीं ऐसा तो नहीं कि राजन को अभी आप भूल नहीं पा रही हो ।”

दीदी अचानक गुस्सा होते हुए बोली , “ उस कमीने की बात मत करो । मेरे दिल में उसके लिए सिर्फ नफ़रत है ।”

मैं : ” ओके ! ओके ! दीदी शांत हो जाओ ।”
दीदी कुछ नार्मल हुई तो मैंने फिर पूछा , “ दी पक्का कोई और बात नहीं है ? ”

दीदी फिर कुछ देर के लिए खामोश हो गयी और फिर धीमे से स्वर में बोली , “ नहीं कोई और बात नहीं है । बस तुम लोगों को छोड़ कर जाने का मेरा मन नहीं हो रहा ।”

मैंने प्यार से स्नेहा दीदी के सर के बालों को सहलाया और बोला , “ दीदी मन तो हमारा भी नहीं है तुम्हें खुद से अलग करने का । पर याद है ना मैंने पहले कहा था कि ज़माने का यही दस्तूर है । ”

दीदी फिर थोड़ा सा नाराज़ होते हुए बोली , “ भाड़ में जाये ज़माना । ”

मैं : ” वो सब तो ठीक है दी , पर माँ को क्या कहोगी ? ”

दीदी : ” मैं माँ को भी समझा लूँगी । ”

मैं : ” ठीक है फिर , जैसे आपकी मर्ज़ी । मैं आगे से कोई लड़का नहीं देखूंगा , सब कैंसिल । ”

स्नेहा दीदी के चेहरे पर थोड़ी सी चमक आयी और वो बेड से उठते हुए बोली , “ ओके ! तुम सो जाओ , अब मैं चलती हूँ ।” और दीदी मुड़ कर जाने लगी ।

मैंने पीछे से दीदी को टोका “ दीदी !! ”

दीदी के कदम रुक गए वो पलटी और मुझसे पूछा , “ हैं ? ”

मैंने अपने बेड पर लेटे लेटे कहा , “ अगर प्यार है तो छुपाती क्यों हो ? खुल कर बोलती क्यों नहीं ? ”

स्नेहा दीदी का चेहरा शर्म से झुक गया और वो मुझे “गुड़ नाईट ” बोलकर पलट कर कमरे से बाहर चली गयी ।

कुछ दिन बाद , एक सुबह माँ मेरे कमरे में आयी । मैं ऑफिस जाने के लिए तैयार हो रहा था ।

माँ : ” समू , तेरी मौसी के देवर की बेटी की शादी है , उनका फ़ोन आया था । उन्होंने हम सब को वहां बुलाया है । ”

मैं : ” माँ आपको जाना है तो आप दीदी को साथ ले जाओ । मैं छुट्टी नहीं ले सकता , पहले ही बहुत छुट्टियां हो चुकी हैं । ”

माँ : ” मुझे पता था मेरे साथ कोई नहीं जाएगा । चल कम से कम मुझे ट्रेन में तो बैठा सकता है या उतना भी टाइम नहीं है तेरे पास । ”

मैं : ” ओहो माँ कैसी बात कर रही हो । कब जाना है आपको ? ”

माँ : ” अभी 10 बजे की ट्रेन है और तू बस मुझे ट्रेन में बैठा दे । वहां तो कोई ना कोई मुझे लेने आ ही जायेगा ।”

मैं : ” ठीक है माँ । चलो आपका सामान कहाँ है ? मैं आज ऑफिस थोड़ा लेट चला जाऊंगा । ”

माँ : ” तू चल पहले नाश्ता कर ले । मैं अपना सामान लेकर आती हूँ । ”

नाश्ता करने के बाद मैंने स्नेहा दीदी की तारीफ की , “ वाह दीदी क्या परांठे बनाये हैं । कसम से मज़ा आ गया ।”

दीदी मुस्कुराते हुए बोली , ” चल झूठे ! ऐसे तो मैं हमेशा ही बनाती हूँ ।”

मैं : ” हाँ पर आज आपकी मुस्कान ने इसे और भी टेस्टी बना दिया ।”

दीदी हँसते हुए किचन में चली गयी और माँ अपना सामान लेकर कमरे से बाहर आ गयी । मैं माँ को स्टेशन छोड़ने चल दिया ।

to be continued……….