jawani din char ki part 3

jawani din char ki part 3 चौकीदार के जाते ही मैंने दरवाजा अंदर से बंद किया और पकड़ कर पायल को अपनी बाहों में भर लिया। “बहुत बेताब हो मुझे […]

jawani din char ki part 2

jawani din char ki part 2 “लगता है तुम्हें भी ठण्ड लग रही है…!” वो मेरे कान में फुसफुसाई और बिना मुझसे पूछे ही उसने अपनी शाल मुझ पर भी […]

jawani din char ki

jawani din char ki नवम्बर की रात को मैंने दिल्ली से जालंधर जाने के लिए बस पकड़ी। रात का सफर थोड़ा सुविधाजनक भी था क्यूंकि लम्बा सफर था। दिल्ली बस […]

1 4 5 6 7