Padosan Aunty Aur Uski Beti Ki Chudai

मेरा नाम लव है, मैं चंडीगड़ का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 22 साल है, में अपने परिवार के साथ ही रहता हूँ। मेरे पड़ोस मैं एक सेक्सी आंटी रहती है जो मेरी माँ की बहुत अच्छी दोस्त है और उनका एक दूसरे के घर पर आना जा लगा रहता है। उनकी एक बेटी है बहुत सेक्सी और एक छोटा बेटा है। एक दिन आंटी के दोनों बच्चे अपने मामा के घर गये हुए थे छुट्टियों मैं और आंटी घर पर अकेली थी, आंटी ने मेरी माँ को रात को उनके पास सोने के लिए कहा था लेकिन उसी दिन मम्मी पापा को किसी की शादी मे जाना था दो तीन दिन के लिए तो इसलिए मम्मी ने आंटी को मना कर दिया था।

लेकिन मम्मी ने कहा कि लव आपके पास सो जाएगा दो दिन, ये भी घर पर अकेला ही है अब मम्मी ने मुझे आंटी के पास सोने को कह दिया था, आंटी ने मुझे रात को 10 बजे अपने पास बुला लिया और मैं भी चला गया वहाँ पर सोने के लिए, आंटी ने मुझे खाने को अंगूर दिए मैने थोड़े से अंगूर खा लिए थे और बाकी साइड मे रख दिए और टीवी देखने मे लग गया। आंटी भी मेरे साथ टीवी देख रही थी। तभी थोड़ी देर बाद आंटी टीवी देखकर सो गई और मैं ये सब देख रहा था कि आंटी अब सो चुकी है, तभी मैने चॅनेल चेंज कर दिया और मैने FTV लगाकर देखने लगा उस पर मॉडल्स का नाईट शूट आ रहा था, मॉडल ब्रा और पेंटी मैं थी और में बड़े मजे से उन्हें देख रहा था, मुझे वो सब बहुत अच्छा लग रहा था। वो सब देख कर मैं अपने लंड को सहला रहा था और तभी आंटी की आंख खुल चुकी थी पर मुझे इस बात का पता नहीं था, थोड़ी देर बाद आंटी ने कहा बेटा सो जाओ अब तो रात बहुत हो चुकी है, बाकि टीवी कल देखना तभी मैने कहा ठीक है आंटी जी और लाईट्स ऑफ कर दी लेकिन में टीवी देखता ही रहा तभी आंटी ने मुझे वो सब देखते हुए देख लिया और बोली बेटा अब टीवी बंद कर दो और फिर मैं भी लेट गया आंटी के साथ टीवी बंद कर के लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी, तभी आंटी ने सोते हुए पूछा टीवी में क्या देख रहा था मैं चकित हो गया और कहा कुछ नहीं आंटी में तो बस ऐसे ही टाईम पास कर रहा था।

आंटी ने कहा तुझे अच्छा लगता है क्या ये चॅनेल जो तू देखता है, मैने कहा हाँ आंटी, वो बोली उसमें कुछ दिखता ही नहीं फिर क्या अच्छा लगता है तुझे उसमें, अब तो मुझे बहुत डर लग रहा था मैने आंटी से कहा आंटी प्लीज आप मम्मी को मत बोलना में कभी भी नहीं देखूंगा, प्लीज आंटी सॉरी। आंटी ने कहा ठीक है में नही बोलती बस तुम तो आराम से सो जाओ। फिर मैं आराम से सो गया, मुझे बहुत देर तक नींद नहीं आई थी, में तो बस आखं बंद करके लेटा था, तभी मुझे लगा कि जैसे मुझे किसी ने छुआ है, मैने देखा तो आंटी अपनी टांग मेरी टांग पर रगड़ रही थी और फिर में भी आंटी के ओर पास चला गया मैने धीरे से अपना हाथ उनके बूब्स पर रख दिया और उन से लिपट गया लेकिन आंटी ने मुझे कोई रेस्पॉन्स नहीं दिया था।

में तो ऐसे लेटा हुआ था जैसे अभी बहुत गहरी नींद मैं हूँ पर मेरा लंड खड़ा हो गया था वो आंटी के जाँघो को छू रहा था अब आंटी लंड को सहलाने लगी मैने आंटी को बोला आंटी ये क्या कर रही हो तभी आंटी ने कहा तुम्हारे देखने से ज़्यादा मजा करने मैं है, आज मेरे साथ तू भी करके देख और उन्होने मेरा लंड पकड़ लिया और लंड को किस करने लगी और मुझे बोली बोल कैसा लग रहा है। तभी मैने कहा अच्छा लग रहा है, कहने लगी कि तू भी कुछ कर जैसे में करती हूँ वैसा कर। अब मुझे तो मौका मिल गया था, आज सब कुछ करने का वो भी अपनी मर्जी से, फिर मैने भी उनको किस करना शुरू किया और धीरे धीरे से उनके बूब्स दबाने शुरू कर दिये थे।

अब मैने आंटी का ब्लाउस खोल दिया क्या मस्त मोटे मोटे बूब्स थे उसके, मैने तो सीधा मुहं में डाल कर बूब्स को चूसने लगा मुझे बहुत मजा आ रहा था और अपना एक हाथ चूत पर रख दिया, अब आंटी मेरा लंड हाथ में लेकर मूठ मार रही थी। मैने कहा आंटी आपकी बेटी भी बड़ी सेक्सी है, मुझे वो भी बहुत पसंद है, तभी आंटी ने कहा मुझे बस तू बहुत पसंद है, तू बस चूसता जा तभी मैने कहा प्लीज आंटी मुझे उसकी एक बार गांड मारनी है, तभी वो बोली मैं तुझे उसकी गांड दिला दूंगी, लेकिन तू आज अभी मेरी चूत मार तभी मैने खुश होकर उनका पेटीकोट भी उतार दिया और अपने भी सारे कपड़े उतार दिये और बिस्तर पर अब हम दोनो नंगे थे।

आंटी ने मुझसे अपनी चूत चाटने को कहा अब में चूत चाटने लगा क्या टेस्टी चूत थी आंटी की लेकिन उनकी चूत पानी छोड़ रही थी। तभी वो बोली तू अपना लंड इसमें बाद में डालना अभी तू बस चूत चाट, तभी मैने कहा ठीक है और में जीभ को आगे पीछे करके चूत चाटने लगा। लेकिन आंटी बेकाबू हो रही थी हम दोनो को बहुत मजा आ रहा था, 15 मिनट के बाद मुझे लगा कि अब आंटी झड़ने वाली है और फिर आंटी झड़ गई अब मुझसे से रहा नहीं गया तभी मैने चूत चाटना छोड़कर आंटी के दोनों पैर अपने कंधों पर रखकर लंड को चूत के मुहं पर रख दिया और धीरे से एक धक्का दिया, लंड चूत को चीर कर एक बार में ही चूत के अंदर चला गया था और फिर में जोर जोर से धक्के देकर चूत को चोदने लगा और आंटी के मुहं से अवाज आ रही थी चोदो ओर चोदो जोर से आंटी ने मेरी कमर को कस कर पकड़ रखा था और चुदाई का मजा ले रही थी, में तो जोर जोर से धक्के पर धक्के दिये जा रहा था, फिर कुछ देर के बाद में भी झड़ गया, अब हम एक दूसरे से चिपक कर सो गये, उस रात हमने तीन चार बार चुदाई की।

ये मेरी लाइफ कि पहली चुदाई थी तो में 20 मिनट में ही झड़ गया था और अब सुबह हो गई थी मैं सो रहा था और आंटी नहा चुकी थी और मुझे उठाने आई और कहा कपड़े पहन लो उठ कर मैं उठ गया और फिर बोली रात बहुत मजा आया मैने कहा आंटी एक बार और करें, प्लीज आंटी प्लीज और चिपक गया आंटी से और किस करने लगा आंटी भी मूड मैं आ गई, फिर हमने बाथरूम मैं शावर के नीचे फिर से चुदाई की और चुदाई करने के बाद हम दोनो फ्रेश हो कर सुबह का ब्रेकफास्ट करने लगे थे।

तभी आंटी की बेटी और बेटा आ गये मैने आंटी से कहा आंटी मुझे आपकी लड़की की गांड भी मारनी है उसने कहा मैं बात करूंगी उससे अब दोपहर हो गई थी और में वहीं पर इंतजार करने लगा था, तभी आंटी का लड़का नीचे खेलने चला गया, अब आंटी की बेटी और आंटी और मैं घर पर थे। मैने आंटी को फिर से इशारा किया और आंटी ने फिर उससे बात करनी चाही पर ठीक से नहीं कर पाई तभी मैने आंटी की चूत में झटके के साथ उंगली डाल दी और वो चिल्लाई लड़की ने कहा क्या हुआ मम्मी तभी वो बोली कुछ नहीं इसने मेरी चूत मैं उंगली डाल दी।

अब मुझे बहुत अच्छा लग रहा है और बोली तू भी लंड ले कर देख तुझे कैसा लगता है, अगर अच्छा लगा तो लेना वरना मना कर देना। तभी लडकी बोली कि ठीक है, उसने सलवार सूट पहना हुआ था, अब उसने अपने पूरे कपड़े उतार दिये और वो मेरे पास आकर बैठ गई और मैने उसकी चूत सहलाते हुए प्यार से उंगली चूत के अंदर डाल दी, उसे अच्छा लगा और वो कुछ नहीं बोली, उसने मुझे कस कर पकड लिया, अब मैने उसको घोड़ी बनने को कहा और लंड उसकी गांड में डालने लगा, मैने अब तो अपना पूरा का पूरा दम लगाया लेकिन लंड नहीं घुसा मैने आंटी को तेल देने को कहा, मैने तेल लेकर लंड पर लगाया बाकि उसकी गांड में डाल दिया और लंड को गांड पर रखकर एक जोर का धक्का दिया, लंड गांड में चला गया लेकिन दर्द से वो चीख उठी और मुझे भी बहुत दर्द हुआ, अब में धीरे धीरे लंड को गांड में आगे पीछे करके उसकी गांड मारने लगा, वो दर्द से रो रही थी, मैने एक ना सुनी और लगा रहा, वो हर बार छोड़ो दो मुझे आज बस इतना ही और हर बार हटने को कह रही थी। अब कुछ देर बाद में झड़ गया उसकी गांड में, वो तो बस पड़ी ही रही।

हम दोनो को ऐसा देख आंटी का मन भी चुदने को हो गया मैं उनकी बेटी को किस कर रहा था, तभी आंटी ने लंड को मुहं में लिया और 10 मिनट बाद उसको चूस चूस कर फिर से खड़ा कर दिया और मुहं से निकाल कर अपनी गांड में घुसा लिया और अपने दोनों हाथ से गांड को चोड़ा किया और धीरे धीरे मैं उसकी गांड मारने लगा, अब मुझे बहुत मजा आ रहा था, उसके बाद में आंटी कि गांड में झड़ गया था। उस दिन मैने दोनो माँ और बेटी को बहुत चोदा और अब डेली चोदता हूँ। अब आंटी ने वहाँ से शिफ्ट कर लिया है, पर अब भी मैं कभी कभी उनको चोदने जाता हूँ।